Breaking News

गाजीपुर: खुला राज लक्ष्मी की कृपा से निहाल प्रधानाचार्य ने चपरासी को बनाया था बाबू आई0बी0एन0 की खबर पर मुहर

 

टीम आईबीएन न्यूज

राकेश की रिपोर्ट

गाजीपुर: सुहवल इण्टर कालेज में तैनात प्रधानाचार्य की कलई खुल गई। 29 अक्टूबर को आई0बी0एन0 ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इस मामले में प्रधानाचार्य ने विद्यालय में तैनात चपरासी को सीधी भर्ती वाले पद पर प्रमोट कर बड़े बाबू बना दिया था और मामले के अनुमोदन पर जिला पंचायत अध्यक्ष की सहमति भी बिना बताये ले ली गयी हैं। इस मामले में जब आई0बी0एन0 ने प्रधानाचार्य से बात किया तो उन्होंने सारी प्रक्रिया नियम के अनुसार होने की बात कह गुमराह करने का प्रयास किया था।

बताया जाता है कि जिले के सुहवल में जिला पंचायत की ओर से एक विद्यालय संचालित किया जाता है जिसमे पढ़ने वाले छात्रों से शुल्क भी नही लिया जाता है। समुची शिक्षा व व्यवस्था पर आने वाला खर्च जिला पंचायत खुद वहन करती है। मौजूदा समय में जिला पंचायत अध्यक्ष सपना सिंह इसी विद्यालय में तैनात प्रधानाचार्य हरेन्द्र सिंह बिहार के रहने वाले है और अपने कारनामों से आये दिन जनपद के लोगों को चकित कर देते है।

पूर्व में इन्होनें अपने दो पुत्रों को कुछ ही दिनो के अंतराल पर पैदा होने का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर दोनो को सरकारी नौकरी दिलवा दिया। मामला जब खुला तो माफी मांगने लगे और कहने लगे कि त्रुटि भूल वश हो गयी है। हालांकि दोनो पुत्र फर्जी प्रमाण पत्र पर ही सरकारी सेवा में लगे हुए है। दूसरा मामला चपरासी को प्रमोट कर बाबू बनाने का पिछले साल प्रकाश में आया था जहां विद्यालय में तैनात चपरासी रामदुलार को परिचारक के पद से प्रमोट कर सहायक लिपिक के पद पर नियुक्त कर दिया।

इस मामले में विद्यालय में तैनात उक्त शिक्षक जिसे लिपिक बनना था शिवबहादुर भारती ने मामले को उच्चाधिकारियों के संज्ञान में डाला और आई0बी0एन0 ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था।

जिसमे विद्यालय के प्रधानाचार्य बेखौफ तरीके से झूठ बोल चुके हैं। इस मामले का संज्ञान धीरे-धीरे जिला विद्यालय निरीक्षक व संचालन करने वाली संस्था जिला पंचायत ने लिया और समुचे मामले की जब जांच की गयी तो पता चला कि हरेन्द्र सिंह ने मॉ लक्ष्मी की कृपा से प्रभावित होकर चपरासी को बाबू बनाया था। जब सपना सिंह के प्रतिनिधि ने चपरासी से बाबू बने व्यक्ति की चूड़ी कसी तो सारा राज बाहर आ गया।

अब हरेन्द्र सिंह मीडिया का फोन उठाने के बजाय दूसरे लोगों से यह सूचना दिलवा रहे है कि मास्टर साहब हार्ट, शुगर, ब्लडप्रेशर सहित आधा दर्जन गंभीर बीमारियों से ग्रसित है और बात करने मे दिक्कत हो रही है। ऐसे में विद्यालय में रोज हाजिरी लगाकर तनख्वाह लेने वाले हरेन्द्र सिंह के अन्य कई कारनामे भी उजागर हो गये है जिससे जिला पंचायत की गरिमा धूल धुशरित हो रही है।

आई0बी0एन0 न्यूज लगातार जिला पंचायत की ओर से संचालित सुहवल इण्टर कालेज में तैनात प्रधानाचार्य हरेन्द्र सिंह के कारनामों का दूसरा काला चिट्ठा जल्द ही खोलेगा जिससे साफ हो जायेगा कि प्रबन्ध तंत्र को ही नही यहॅा पढ़ने वाले मासूमों के साथ इस तरह की घिनौनी हरकतों को अंजाम देने वाले प्रधानाचार्य के बारे में प्रबन्ध तंत्र स्थानीय लोग व जिला प्रशासन को क्या निर्णय लेना चाहिए।

हालांकि फर्जी तरीके से चपरासी को बाबू बनाने वाले कलई खुलने के बाद जिला प्रशासन की ओर से जंाच का शिकंजा कसता जा रहा है जबकि हरेन्द्र सिंह व उनका एक ऐसा खारकास जो जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय को बदनाम करने में हमेशा आगे रहा वह भी इस समय अपनी तैनाती जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में कराने में कामयाब हो चुका हैं। अगला अंक जारी

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

अघोर सम्राट बाबा शिवाराम की समाधि पर कारो मठ में आयोजित हुआ कार्यक्रम सर्वेश्वरी समूह ने वितरित किया पूजन सामग्री

  टीम आईबीएन न्यूज वाराणसी: सर्वेश्वरी समूह वाराणसी पड़ाव के तत्वाधान में चल रहे मन्दिरों …