Breaking News

गाजीपुर – चोरो व ढोगियो के काकश मे फसी बऊडहिया सिद्धपीठ पूरी जलेबी बेचने वाला बना बाबा डीएम की पहल भी नाकाफी

टीम आईबीएन न्यूज

राकेश की रिपोर्ट

गाजीपुर: आईये मस्ती कीजिए शराब पीजिए और फिर दान पात्र तोड़कर अघोर पीठ में भक्तों की ओर से चढावें का पैसा ले जाइये। यह हाल है जिला मुख्यालय पर मौजूद अति प्राचीन बौड़हिया सिद्धपीठ धाम परिसर का क्योंकि परिसर में सुरक्षा के लिये लगे कैमरे भी ठीक नही करा पा रहे कथित जिम्मेदार।

शहर के चीतनाथ इलाके में स्थित बौड़हिया सिद्धपीठ नगरवासियों सहित अघोर समाज के आस्था का प्रमुख केन्द्र है। समाज सेवियों व सिद्धेश्वरी समूह गाजीपुर के अघोर अनुयायियों ने तकरीबन 50 लाख रूपये खर्च कर इस जर्जर पीठ को भव्य स्वरूप दिया। जबकि लम्बे समय से कथित कमेटी बनाकर पीठ पर कब्जा करने वालों को नगर पालिका प्रशासन ने आईना दिखाते हुए पीठ का नामकरण ही उसके मूल आधार पर कर दिया गया। जिससे सिद्धपीठ हड़पने और उसपर अपना अधिकार बताकर ताला चढ़ाने वाली कथित कमेटी सकते में आ गयी।

इसके पूर्व सिद्धपीठ ने शराब पीने परिसर को शादी विवाह के लिए बुकिंग करने और आने वाले चढ़ावें को कमेटी बनाकर खाने वाले स्थानीय लोगों को कड़ी चेतावनी देते हुए पूर्व जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह ने सिद्धपीठ में वीडियो कैमरा लगवा दिया ताकि अराजक तत्वों पर अंकुश लगे और ऐसे लोग चिन्हित हो सके।

लेकिन अघोर भक्तों और सर्वेश्वरी समूह के लोगों का आरोप है कि सेवा के नाम पर बनाई गयी कमेटी अब दान पत्र की रक्षा कर पाने में भी अक्षम साबित हुई है।साथ ही परिसर में लगे सी0सी0 टी0वी को ठीक कराने का भी काम कथित कमेटी के बूते में नही हैं पिछले जनवरी महीने में चौतरफा बाउण्ड्री से घिरे सिद्धपीठ में चोर ने घुसकर दान पत्र तोड़ दिया और पैसे चुरा ले गये। लेकिन दान पात्र मे दूसरा ताला लगाकर चढ़ावा खाने वाले चुप रहे यही नही दूसरा ताला लगाकर चलते बने। इसी लापरवाही के चलते सिद्धपीठ के दान पत्र कों चोरो ने दोबारा धावा बोल ताला तोड़ दिया और चढ़ावा ले गये।

स्थानीय लोगों का कहना है कि सर्वेश्वरी समूह की ओर से धूनी की लकड़ी तेल फूक माला अगरबत्ती का रोज इंतजाम किया जाता है। यह प्रक्रिया सालो से चल रही है। जबकि कमेटी बनाकर सेवा का दावा करने वाले स्थानीय लोग बस दान पत्र का पैसा निकालने आते है और मुहल्ले में मौजूद एक पेन्ट की दुकान पर जमा कर देते हैं। हद तो यह है कि चीतनाथ चौराहे पर पूरी जलेबी बेचने वाला शख्स सुबह शाम पूजन के समय बऊडहिया पीठ का मुख्य पुजारी बन जाता है। और दर्शनार्थियो से वसूली करने लगता है।जिसका हिसाब भी कभी नही होता।

शक्ति पीठ में दो बार हुई चोरी की सूचना या शिकायत सेवा का दावा करने वाली कमेटी पुलिस या जिले के जिलाधिकारी से नही कर सकी जिससे मठ की सुरक्षा खतरे में है। लोगो ने मौजूदा जिलाधिकारी व शहर कोतवाल से हस्तक्षेप की मांग की है। इस बारे में समिति के अध्यक्ष अशोक अग्रहरि से जब वार्ता हुई तो उन्होंने बताया कि पिछले महीने चोरी हुई थी इस महीने की जानकारी नही हैं। अशोक जी 15 से बीमार है और उनको ठीक से सिद्धपीठ के बारे में जानकारी भी कमेटी के लोग नही दे रहे है।यानि चोरी की सूचना उनको नही है।

About IBN NEWS

Check Also

सारा मीडिया एग्जिट पोल्स से बजबजाने लगा कथित सर्वे के अनुमानों को परिणामों की तरह दिखाया जाने लगा

एग्जिट पोल्स : सिर्फ धंधा है या कुछ और इरादे भी हैं? (आलेख : राकेश) …