Breaking News

किशोरियों ने शिक्षा के अधिकार अधिनियम 2009 के विस्तार की आवश्यकता पर दिया बल

मुख्यमंत्री के नाम बालिकाओं ने लिखा पोस्टकार्ड

ब्यूरो चीफ मुकेश मिश्र

अंबेडकरनगर – अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस / राष्ट्रीय बालिका दिवस, 24 जनवरी 2023 पर अपने मुख्यमंत्री, माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी को पोस्टकार्ड लिखें जिसमें बालिकाओं ने लिखा कि यदि 12वीं कक्षा तक शिक्षा मुफ्त और अनिवार्य कर दी जाती है, तो हम में से बहुत सारी किशोरियां, जो निजी स्कूल की फीस का भुगतान करने में सक्षम नहीं हैं या 8वीं कक्षा के बाद पास के सरकारी स्कूल की अनुपलब्धता के कारण पढ़ाई छोड़ देती हैं, अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने में सक्षम होंगी”। मनोज कुमार के अनुसार एक विश्लेषण का अनुमान है कि संकट के बीत जाने के बाद दुनिया भर में 20 मिलियन और माध्यमिक स्कूल-आयु वर्ग की लड़कियां स्कूल से बाहर हो सकती हैं। हालांकि, उत्तर प्रदेश में यू०डी०आई०एस०ई० के 2021-22 के आंकड़ों से पता चलता है कि स्कूली शिक्षा के सभी स्तरों पर नामांकित लड़कियों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में 8.19 लाख की वृद्धि हुई है। “सकल नामांकन अनुपात (जी०ई०आर०) का लैंगिक समानता सूचकांक (जी०पी०आई०) दिखाता है कि स्कूली शिक्षा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व संबंधित आयु वर्ग की आबादी में लड़कियों के प्रतिनिधित्व के अनुरूप है”।

यू०डी०आई०एस०ई० की रिपोर्ट (2021-22) के अनुसार, भारत में 3.85 करोड़ बच्चे माध्यमिक स्तर पर और 2.85 करोड़ उच्च माध्यमिक स्तर पर नामांकित हैं। स्कूल जाने वाली आबादी का केवल 14.5% माध्यमिक स्तर पर नामांकित है जो उच्च माध्यमिक स्तर पर 10.8% तक घट जाता है। बच्चों को औपचारिक स्कूली शिक्षा की मुख्य धारा में लाने पर जोर देते हुए सार्वभौमिक पूर्णता सुनिश्चित करने पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए। उत्तर प्रदेश के सन्दर्भ मे यू०डी०आई०एस०ई० की रिपोर्ट (2021-22) के अनुसार माध्यमिक स्तर पर 62.23 लाख और उच्च माध्यमिक स्तर पर 47.78 लाख बच्चे नामांकित हैं l हाल ही में जारी आर०बी०आई० के प्रकाशन राज्य वित्त बजट 2022-23 के एक अध्ययन” में कुल व्यय के प्रतिशत के रूप में शिक्षा पर व्यय के लिए प्रदान किया गया डेटा, पिछले 15 वर्षों में उत्तर प्रदेश में शिक्षा (खेल, कला और संस्कृति सहित) पर खर्च का मिश्रित रुझान दिखाता है।

जबकि 2012-13 में खर्च 17.3% जितना अधिक था, पिछले दस वर्षों में हिस्सेदारी में गिरावट आई है और सबसे कम खर्च महामारी (कोविड) के दौरान 2021-22 (आर०ई०) में देखा गया था, क्योंकि कुल राज्य के खर्च में शिक्षा का हिस्सा घटकर 11.9% रह गया था l अभियान के दौरान गायत्री ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति, (एन.ई.पी.) माध्यमिक शिक्षा को सार्वभौमिक बनाने की प्रक्रिया की कल्पना करती है। कुछ प्रासंगिक पहलुओं में मूल्यांकन मानकों का नया स्वरूप, राष्ट्रीय और राज्य मुक्त विद्यालयों का विस्तार और व्यावसायिक शिक्षा का विस्तार शामिल है। अधिक ड्रॉपआउट या पहुँच से बाहर माध्यमिक शिक्षा के पीछे मुख्य कारण माध्यमिक स्तर पर आवश्यक संख्या में पहुंच योग्य विद्यालयों की अनुपलब्धता है। नए स्कूल खोलकर स्कूली शिक्षा के जाल का विस्तार करने की सख्त जरूरत है। इस प्रतिबद्धता के अभाव में, अगम्य विद्यालयों का खामियाजा ज्यादातर किशोरियों को भुगतना पड़ता है क्योंकि उन्हें समाज के पितृसत्तात्मक ढांचे में शिक्षा के लिए लंबी दूरी तय करने की अनुमति नहीं होती है ।

साथ ही, माध्यमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण में सामाजिक और आर्थिक बाधाएँ हैं जिनके लिए कार्रवाई की आवश्यकता है। इस प्रकार, लिंग आधारित भेदभाव अधिक ड्रॉपआउट में योगदान देता है। साथ ही, इस चरण में बाल श्रम में भागीदारी का अधिक जोखिम होता है। महामारी (कोविड) के बाद से सामाजिक जोखिम बढ़ गया है। कोविड के बाद बच्चों की पहचान और नामांकन की आवश्यकता है और स्कूल बंद होने के कारण सीखने की हानि को दूर करने के लिए एक सहायक प्रणाली लाने की आवश्यकता है।

यदि किशोरियां, माध्यमिक विद्यालय तक पहुँच भी जाती हैं, तो उनकी शिक्षा की मुख्य बाधाएँ खराब शैक्षिक गुणवत्ता, शिक्षकों की कमी, अपर्याप्त बुनियादी ढाँचा, कार्यात्मक शौचालयों की कमी, सुरक्षा संबंधी चिंताएँ, प्रतिगामी सामाजिक मानदंड, भेद भावपूर्ण माता-पिता का रवैया और सामाजिक आर्थिक स्थिति हैं। स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद, लड़कियों को अक्सर घरेलू कार्यों का पालन करने के लिए छोड़ दिया जाता है, जिससे इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि उन्हें कम उम्र में शादी, जबरन श्रम, या मानव तस्करी के लिए मजबूर किया जाएगा। शिक्षा का अधिकार (आर०टी०ई०) अधिनियम के अंतर्गत सरकार को 6-14 वर्ष के बीच के सभी बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा प्रदान करना है लेकिन इसके विपरीत माध्यमिक स्तर पर ऐसी कोई कानूनी बाध्यता नहीं है। 24 जनवरी को मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के अवसर पर, जिसे भारत में राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में भी मनाया जाता है,

सेण्टर फार सोशल इक्विटी एण्ड इन्क्लूजन नई दिल्ली जो ‘चैंपियंस फॉर गर्ल्स एजुकेशन’ का एक हिस्सा है; ये नेटवर्क शिक्षा प्रणाली के विस्तार और सुधार के बड़े लक्ष्य के साथ काम करने वाले संगठनों का एक नेटवर्क और माध्यमिक स्तर पर शिक्षा के बजट में लैंगिक संवेदनशीलता बढ़ाने के साथ-साथ गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में सुधार और भेदभावपूर्ण सामाजिक मानदंडों को चुनौती देने का कार्य कर रहा है l किशोरियों कि शिक्षा के लिए चैंपियंस फॉर गर्ल्स एजुकेशन, 12 वीं कक्षा तक शिक्षा का अधिकार अधिनियम के विस्तार की मांग को साझा करने के लिए किशोरियों का समर्थन कर रहा है।
सचिव गायत्री ने बताया कि हस्ताक्षर अभियान के अंतर्गत, अम्बेडकरनगर जिले के 30 गाँवों से 1000 किशोरियों को एकत्रित करके तथा आदरणीय मुख्यमंत्री जी को अपनी अपील/मांग के साथ पोस्टकार्ड प्रधान डाकघर अकबरपुर से डाक अधीक्षक नूतन सिंह के सहयोग से भेजा गया है l किशोरिया जन विकास केन्द्र मुख्यालय भितरीडीह पर इकठ्ठा होकर और अपनी अपील / मांगों में एकजुटता के संकेत के रूप में एक साथ पोस्टकार्ड भेजी हैं।
मेण्टर जाहिदा ने बताया कि यह असम, बिहार, झारखंड, ओडिशा और उत्तर प्रदेश में ‘चैंपियंस फॉर गर्ल्स एजुकेशन’ के सदस्य संगठनों द्वारा आयोजित एक बड़े पोस्टकार्ड हस्ताक्षर अभियान का हिस्सा है, जिसमें कई जिलों से लगभग 1 लाख किशोरियां भाग लेंगी।

आर०टी०ई० के विस्तार के अलावा, किशोरियां अपनी छात्रवृत्ति कि समय पर उपलब्धता और सरलीकृत प्रक्रिया, स्कूल के अन्दर और बाहर सुरक्षा और शिक्षकों की अनुपलब्धता की भी मांग कर रही हैं। इस महीने की शुरुआत में अम्बेडकरनगर मे 1000 से किशोरियों के साथ परामर्श आयोजित किया गया था। परामर्श मे किशोरियों को अपनी समस्याओं को साझा करने, अपनी राय देने, शिक्षा प्राप्त करने में अपनी चुनौतियों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और अपनी मांगों को स्पष्ट करने के लिए एक मंच प्रदान किया। किशोरियां अपनी मांगों को स्थानीय अधिकारियों/जनप्रतिनिधियों/विभिन्न राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों के पास ले जाने की भी योजना बना रही हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनकी आवाज सुनी जाए।
मानवाधिकार कार्यकर्ता मनोज कुमार ने कहा कि वर्तमान समय में प्रत्येक राज्य अपने वार्षिक कार्य योजना और बजट (२०२३-२४) की प्रक्रिया पर कार्य कर रहा है, सभी स्तरों पर स्कूलों को मजबूत करने के लिए किशोरियों की मांग/अपील पर विचार करना उचित होगा ताकि बारह साल की गुणवत्ता और समावेशी शिक्षा प्रत्येक किशोरी के लिए एक वास्तविकता बन सके l
सम्पूर्ण अभियान को सफल बनाने में जाहिदा महिमा सविता ससपना की मँजू शिमला युवा समता मँच उत्तर प्रदेश की अराधना ने महत्वपूर्ण योगदान दिया।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

जनपद की खंडासा पुलिस व सर्विलांस सेल को मिली सफलता

  ब्रेकिंग न्यूज़ एसपी ग्रामीण की प्रेसवार्ता अयोध्या ब्यूरो कामता शर्मा अयोध्या। जनपद की खंडासा …