Breaking News

बस्ती में मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस

 

ब्यूरो रिपोर्ट विकाश चन्द्र अग्रहरी IBN NEWS मिर्ज़ापुर

विंध्याचल, मिर्ज़ापुर। सोमवार को तिवारीपुर बस्ती में मनाया गया।इस अवसर डॉ मंजू यादव ने उपस्थित महिलाओं, बालिकाओं,पुरुषों तथा बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने के पीछे उद्देश्य है कि दुनियाभर की बालिकाओं के आवाज का सशक्त करना है। अन्तर्राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों और उनके अधिकारों के संरक्षण के बारे में जागरूकता पैदा करना है। यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह लिंग-आधारित चुनौतियों को समाप्त करता है। जिसका सामना दुनिया भर में लड़कियां करती हैं। जिसमें बाल विवाह, उनके प्रति भेदभाव और हिंसा शामिल है।


अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस खास दिन पर परिवार, समाज और देश के लिए बालिकाओं के महत्व को दर्शाया जाता है। साथ ही यह संदेश दिया जाता है कि बालिकाओं की क्षमताओं और शक्तियों को पहचान कर उनके लिए दिल खोलकर अवसर मुहैया कराने चाहिए। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने के पीछे उद्देश्य है कि दुनियाभर की बालिकाओं के आवाज का सशक्त करना है। दुनियाभर में कई ऐसे इलाके या देश के जहां बालिका को लड़कियों की तुलना में कम महत्व दिया जाता है और बालिकाओं के साथ विवाह, शिक्षा, सामाजिक स्तर में कई तरह के भेदभाव किए जाते हैं। साथ ही हिंसा, शिक्षा के खराब अवसरों जैसे लिंग आधारित चुनौतियों का सामना करने के कारण कई देशों में महिलाओं के स्थिति काफी खराब है। इस बार ‘डिजिटल जनरेशन: हमारी पीढ़ी’ की थीम के आधार पर मनाया जा रहा है।

इस खास दिवस पर परिवार, समाज और देश के लिए बालिकाओं के महत्व को दर्शाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस को पहली बार साल 2012 में मनाया गया था।
इस दिवस को बढ़ावा देने के लिए इस दिन अलग-अलग देशों में विभिन्न प्रकार के आयोजन भी किये जाते हैं. इस आयोजन के तहत लड़कियों की शिक्षा, उनके कानूनी अधिकार, पोषण, चिकित्सा देखभाल के प्रति उन्हें जागरूक किया जाता है।


अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों का संरक्षण करना तथा उनके समक्ष आने वाली चुनौतियों एवं कठिनाईयों की पहचान करना है. इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य यह भी है कि समाज में जागरूकता लाकर लड़कियों को वे समान अधिकार दिलाये जा सकें, जो कि लड़कों को दिये गये हैं।
‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ एक विशेष योजना

संगीता मिश्रा ने कहा कि केंद्र सरकार ने बालिकाओं को संरक्षण और सशक्त करने के लिए ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना की शुरुआत साल 2015 किया था। केंद्र सरकार ने बालिकाओं को सशक्त बनाने के लिए कई प्रकार की योजनाओं को लागू किया है। प्रत्येक साल 24 जनवरी को भारत में ‘राष्ट्रीय बालिका दिवस’ मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत

नगीना सिंह ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत साल 2012 से हुई थी। इस दिवस का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण और उन्हें उनके अधिकार प्रदान करने में मदद करना है। भारत सरकार भी इस दिशा में बढ़ चढ़कर काम कर रही है। लड़कियों के लिए कई योजनाएं भी लागू की जा रही हैं। लड़कियों के प्रति होने वाली लैंगिक असामानताओं को खत्म करने के बारे में जागरूकता फैलाने में भी इसकी मदद ली जा रही है।
इस दौरान डॉ. मंजू यादव,पूजा मौर्य,शालिनी देवी,विद्या जायसवाल,नगीना सिंह व संगीता मिश्रा जी उपस्थित थी।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

यूपी में यूपी में 10 जिला अधिकारियों के तबादले

  नीतीश कुमार अयोध्या के नए जिलाधिकारी। नियुक्ति संजय सिंह जिला अधिकारी फर्रुखाबाद बने। मानवेंद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *