Breaking News

बेतिया- बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने साक्षरता दर बढ़ाने के लिए अशिक्षित महिलाओं पर साधा निशाना

बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने साक्षरता दर बढ़ाने के लिए अशिक्षित महिलाओं पर साधा निशाना
बिहार सरकार ने अपने शिक्षा विभाग पर कार्यवाही करते हुए महिलाओं के शिक्षा दर में बढ़ोतरी करने के लिए उनसे उपाय ढूंढने की परामर्श दी है। शिक्षा विभाग ने महिलाओं के अंदर साक्षरता दर को बढ़ाने के लिए नए सिरे से कवायद करना शुरू कर दिया है इसके अंतर्गत तो नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक से यह निर्णय लिया गया है कि महादलित दलित अल्पसंख्यक अति पिछड़ा वर्गो की महिलाओं को जो 15 से 45 साल की हैं जो अभी तक शिक्षित नहीं हो पाई है या साक्षरता के लिए बने केंद्रों पर अपनी उपस्थिति नहीं दर्ज करा पा रही हैं उन केंद्रों पर रोज सुचारु रुप से चलाने के लिए सरकार ने एक नई योजना का आरंभ किया है |
जिसके अंतर्गत तो जो महिलाएं निरक्षर हैं और उनकी आयु 15 से 45 वर्ष के अंतर्गत है उन्हें साक्षर करने के लिए जन शिक्षा निदेशालय बिहार सरकार के द्वारा राज्य के सभी जिलों में लक्ष्य निर्धारित की गई है जिसके अंतर्गत शिक्षा सेवक को अधिक से अधिक असाक्षर महिलाओं को इस कार्यक्रम से जुड़ेंगे और उन्हें साक्षर बनाने की क्रिया में अपना योगदान देंगे। इस कार्यक्रम के अंतर्गत हो जिला के सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र निर्गत करके यह आदेश दिया गया है अपने क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले सभी पंचायतों में शिक्षा सेवकों के माध्यम से अशिक्षित महिलाओं को साक्षर करने के लिए सूची बनाकर पूर्व के द्वारा निर्धारित दो केंद्रों पर सभी अशिक्षित महिलाओं को जमा करके उनके सर्वेक्षण के अनुसार जाति वर्ग के अनुसार पढ़ाने का कार्य करेंगे जिससे वह अशिक्षित महिलाएं साक्षर हो सके। केंद्र सरकार एवं बिहार सरकार के द्वारा साक्षरता कार्यक्रम का आयोजन किया गया था|
जिसमें बहुत सी महिलाएं साक्षर हो गई थी और अपने गृह कार्यों में इसका प्रयोग करती रहेंगी। विदित हो कि बिहार सरकार ने इस कार्यक्रम को वर्ष 2012 से ही आरंभ किया था जिसके अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों के महिलाएं जिनकी आयु 15 से 35 वर्ष की थी उन्हें साक्षरता केंद्र पर लाकर साक्षर किया गया था मगर जितना लक्ष्य दिया गया था उसकी पूर्ति नहीं हो सकी थी इसी पुति को करने के लिए पुनः सरकार ने शिक्षा विभाग के माध्यम से 15 से 45 आयु वर्ग के विभिन्न जातियों के महिलाओं को साक्षर करने का लक्ष्य दिया है इस लक्ष्य को पूर्ति करने के लिए बिहार सरकार के सभी शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों की जिम्मेदारी बनती है |
इस कार्यक्रम को उसके लक्ष्य तक पहुंचा दें इस कार्य में बिहार सरकार द्वारा नियोजित किए गए शिक्षा सेवकों को लगा कर पढ़ाने का कार्य करवाएंगे जिससे इस जाति के लोगों को विभिन्न स्तर के महिलाओं को साक्षर बनाया जा सके। 15 से 45 आयु वर्ग के विभिन्न जाति के महिलाओं को साक्षर बनाने का यह कार्यक्रम सरकार का यह सराहनीय कदम है जिसे साक्षरता का दर जो हमारे राज्य में अन्य राज्यों की तुलना में बहुत कम है उसके स्तर तक पहुंचने के लिए इस कार्यक्रम को सफल बनाना होगा तभी जाकर देश के अन्य राज्यों के बराबर साक्षरता की दर में बढ़ोतरी करके अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हैं।
 
रिपोर्ट विजय कुमार शर्मा ibn24x7news बिहार

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

जनता के दरबार में शामिल हो रहे हैं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

    पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जनता के दरबार में शामिल हो रहे हैं। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *