Breaking News

गाजीपुर: बेखौफ स्वास्थ्य माफिया ने जिला मुख्यालय पर खोला अस्पताल,आपरेशन शुरू सीएमओ कुम्भकर्णी नींद मे

गाजीपुर: बेखौफ स्वास्थ्य माफिया अब ग्रामीण इलाको में अपना वर्चस्व स्थापित करने के बाद जिला मुख्यालय की ओर आने लगे है और कोतवाली इलाके में बिना रजिस्ट्रेशन के मौत का कारोबार शुरू कर दिये। नगर क्षेत्र के मिश्रबाजार इलाके में पिछले चार महीने से चल रहा शिवागिंनी अस्पताल इस बात का जीता जागता नमूना हैं। अस्पताल में धड़ल्ले से आपरेशन शुरू हो चुका है और प्रसूताओं व मासूमो की जिन्दगी दांव पर लगी है। इस बात की सूचना न तो मुख्य चिकित्साधिकारी को है और न ही फर्जी अस्पतालों की जांच करने वाले सम्बन्धित विभाग की ।

एक महीने पूर्व नन्दगंज थाना क्षेत्र के बरहपुर गांव किनारे चल रहे शिवांगी अस्पताल में प्रसूता व मासूम की मौत हो गयी इसके बाद अस्पताल संचालक फरार हो गया था और किसी तरह मामले को रफा दफा कराने में कामयाब हो गया था। इस दौरान अस्पताल संचालक जो कि वार्ड ब्वाय भी नही है उसने जिला मुख्यालय पर अपना ठिकाना बना लिया और शिवागिंनी अस्पताल खोलकर मैनेजिंग डायरेक्टर बन गया। अस्पताल में लगे बोर्ड पर साफ-साफ लिखा गया है कि डा0 राजू कुशवाहा मैनेजिंग डायरेक्टर है और यहॅा डाक्टर ओ0पी0 जायसवाल बैठते हैं। जबकि राजू खुद पूर्व से आपरेशन करता रहा है और प्रसूताओं की जान लेता रहा है।

मिश्रबाजार में खोले गये नये शिवागिंनी अस्पताल का रजिस्टेªशन अभी नही हुआ है। एक प्रसूता की मौत के बाद जब मीडियाकर्मियों ने राजू कुशवाहा से बात किया कि बिना रजिस्टेªशन अस्पताल कैसे चल रहा है तो उसने बताया था कि स्वास्थ्य विभाग के जांच अधिकारी के0के0 वर्मा से बातचीत के बाद अस्पताल चल रहा है रजिस्टेªशन की क्या जरूरत है। मामला आया गया हो जाने के बाद उसी अफसर की कृपा से बेखौफ स्वास्थ्य माफिया जिला मुख्यालय पर अस्पताल खोलकर कानून व्यवस्था व सम्बन्धित विभाग को खुली चेतावनी देना शुरू कर दिया है। सोमवार को इस अस्पताल पहुंचे मीडियाकर्मियों को मौके पर मौजूद बिहार के बक्सर की रहने वाली मरीज की परिजन ने बताया कि उसके मरीज सरोज का आपरेशन यहॅा हुआ है बच्चा व प्रसूता ठीक है।

जिला मुख्यालय पर चल रहे इस अस्पताल में एक दूसरी मरीज भी दाखिल है जिसका दो दिन पूर्व आपरेशन हुआ है और उसका भी इलाज चल रहा है। जब मीडियाकर्मियों ने बोर्ड पर लिखे मैनेजिंग डायरेक्टर राजू या चिकित्सक ओ0पी0 जायसवाल से बात करने की कोशिश की तो मौजूद नर्सो व दाईयों ने पूर्व में जिला मुख्यालय पर अखबार बेचने वाले नगर के एक युवक से बात कराया ताकि पत्रकारों पर भी खबर रोकने का दबाव बन सके। इस मामले में जानकारी के बाबत मुख्य चिकित्साधिकारी को कई बार फोन किया गया लेकिन फोन रिसीव नही हुआ। जिला मुख्यालय पर शुरू हुये मौत के खेल का जिम्मेदार सिर्फ स्वास्थ्य विभाग ही नही है बल्कि वह मकान मालिक भी है जिसने किराये के लालच में अपना मकान स्वास्थ्य माफिया को दे रखा है।

 

एक तरफ मोहम्मदाबाद व अन्य कई इलाको में जांच के नाम पर वाहवाही लूटने वाले कथित जांच अधिकारी के0के0 वर्मा को जिला मुख्यालय पर चल रहे इस अस्पताल की कोई सूचना नही है। चर्चा तो यह भी है कि एक मामले में गंभीर आरोप लगने के बाद के0के0 वर्मा के खिलाफ विधानसभा में सवाल भी उठाया गया है। बावजूद इसके सम्बन्धित अफसर सारे आदेशों व नियमों को ताख पर रखकर धनलोलूपता के चलते गरीब लोगो की जिन्दगी से खुलेआम खिलवाड़ करने का रास्ता बनाने में लगे है।

राकेश की रिपोर्ट

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

हर घर तिरंगा यात्रा का आयोजन किया गया

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट फरीदाबाद:स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर आजादी के …