Breaking News

इस्कॉन में बलराम जयंती बहुत ही धूमधाम से मनाई गई

 

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट

फरीदाबाद: सेक्टर-37 स्थित इस्कॉन मंदिर में बलराम जयंती बहुत ही धूमधाम से मनाई गई। बलराम का प्राकट्य दिवस हमेशा रक्षाबंधन के दिन पड़ता है। जैसा कि आप और हम सभी जानते हैं कि रक्षाबंधन एक ऐसा त्योहार है जहां एक बहन अपने भाई की रक्षा की कामना करती है,लेकिन ज्यादातर लोग यह नहीं जानते कि असली सुरक्षा कृष्ण से होती है। यह त्योहार तब से शुरू हुआ जब द्रौपदी द्वारा कृष्ण को कपड़े के एक टुकड़े से बांधा गया था। महाभारत में इस कथा का विस्तार से वर्णन किया गया है।

बलराम श्रीकृष्ण के प्रथम विस्तार है। वह आध्यात्मिक शक्ति से भरे हैं और वह कृष्ण को आनंद देते हैैं इसलिए उसका नाम बल+राम है। वह हमेशा श्रीकृष्ण लीला में उनकी सेवा करते हैं। बलराम सभी भक्तों को भक्ति में प्रगति के लिए आध्यात्मिक शक्ति प्रदान करते हैं। मंदिर के अध्यक्ष गोपीश्वर दास का यह कहना है कि”पिछले साल हम करोना प्रतिबंधों के कारण बलराम जयंती और कृष्ण जन्माष्टमी को भव्य तरीके से नहीं मना सके।

 

लेकिन इस साल हमने आज का यह त्योहार और 19 अगस्त को जन्माष्टमी दोनों को भव्य तरीके से मनाया और मनाएंगे। हम सभी को जन्माष्टमी में आने और इस भव्य और शुभ दिन के उत्सव का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करते हैं। आज हमने 4.30 बजे मंगल आरती शुरू की। इसके बाद भगवान के पवित्र नामों का जप किया”हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे। फिर हमने बलराम जी की कथा और कीर्तन किया। उसके बाद उनका अभिषेक विभिन्न शुद्ध रसों, शहद,दूध और फूलों से किया।”

इस्कॉन मंदिर ने 19 अगस्त को जन्माष्टमी महोत्सव की बहुत ही भव्य स्तर पर तैयारी शुरू कर दी है। एक विशेष दैनिक कथा श्रृंखला भी शुरू होगी और जन्माष्टमी के दिन तक चलेगी। ये विशेष दिन होते हैं जब भगवान अत्यधिक अधिक दयालु होते हैं और इस प्रकार उत्सव में भाग लेने वाले सभी लोगों पर विशेष दया करते हैं।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

पसीना सूखने के पहले मजदूरो की मजदूरी मिल जाय यह सुनिश्चित करे अधिकारी:आर्यका अखौरी

टीम आईबीएन न्यूज गाजीपुर : जिलाधिकारी आर्यका अखौरी की अध्यक्षता में विभिन्न विभागो के अन्तर्गत …