Breaking News

टाण्डा विकास खंड में पूर्व में तैनात ग्राम विकास अधिकारी को गबन के आरोप में किया गया निलंबित

 

ब्यूरो चीफ मुकेश मिश्र

अम्बेडकरनगर – टांडा विकास खंड में सरकारी धन के हेराफेरी के आरोप में जाँचोंपरांत पूर्व में तैनात ग्राम विकास अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। हालांकि यह कार्यवाही और पहले होनी चाहिए थी लेकिन विभागीय अधिकारी का हाथ ग्राम विकास अधिकारी पर होने के कारण मामला दबा हुआ था। ग्राम विकास अधिकारी मांडवी उपाध्याय के हेराफेरी की शिकायत प्रमुख सचिव व मुख्यमंत्री से हुई थी जिसके बाद जांच में तेजी लाई गई और उसे निलंबित कर दिया गया।

 

बता दें कि यह ग्राम विकास अधिकारी, विकास खण्ड टाण्डा में तैनात थीं जिनके ऊपर 25 लाख रुपये से अधिक के घोटाले का आरोप है। बताया यह भी जा रहा है कि यह धन निकासी बिना कार्य करवाये ही निकाल लिए गए थे जिसमें सरकार की ड्रीम प्रोजेक्ट भी शामिल है। जांच के दौरान ही इसकी पोस्टिंग जिले के दूसरे ब्लॉक में कर दी गई साथ ही क्लस्टर भी दे दिया गया था। जिला विकास अधिकारी ने बताया कि ग्राम विकास अधिकारी मांडवी उपाध्याय ने अपनी तैनाती के दौरान टांडा की ग्राम पंचायत जनार्दनपुर, अमिया बावनपुर, पिपरी सैदपुर और मोहिद्दीनपुर में पंचायत भवन निर्माण 25 लाख से अधिक का धन गबन किया गया।

इसके अलावा पूर्व तैनाती के विकासखंड टांडा के प्राथमिक विद्यालय आलमपुर धनोरा में 30 डेस्क बेंच भुगतान के लिए 15 लाख 70 हजार रूपए आहरित किया गया था, जिसमें जांच के समय मात्र 15 डेस्क बेंच पाई गई,जबकि विकासखंड टांडा के उच्च प्राथमिक विद्यालय जनार्दनपुर में 20 लाख डेस्क बेंच के नाम पर आहरित करके आपूर्ति नहीं की गई। विकास खंड टांडा से जहांगीरगंज स्थानांतरण हो जाने के बाद भी अपनी पूर्व तैनाती की ग्राम पंचायतों का चार्ज भी नहीं दिया था।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

हर घर तिरंगा यात्रा का आयोजन किया गया

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट फरीदाबाद:स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर आजादी के …