Breaking News

श्री कबीर परमहंस स्वामी मंगनानन्द 1008 का आयोजन किया गया

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट.

फरीदाबादःश्री कबीर परमहंस श्री श्री 1008 स्वामी मंगनानंद महाराज जी की 93वीं पुण्य स्मृति के उपलक्ष में स्थित खेड़ी पुल श्री कबीर परमहंस आश्रम‌ व रविदास मंदिर में शुक्रवार रात को सत्संग का आयोजन किया गया। जिसमें दूर-दूर से आए बड़े-बड़े विद्वान और साधु-संतों ने श्री कबीर जी महाराज,संत रविदास महाराज और स्वामी मंगनानंद जी महाराज के दोहों और वाणी का गुणगान किया गया। मंगनानंद आश्रम कनखल हरिद्वार के महंत परमहंस श्री श्री 108 स्वामी चरनानंद इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। और श्री श्री 108 स्वामी नरेशानन्द महाराज ने अध्य्क्षता की। शनिवार सुबह स्वामी मंगनानंद महाराज जी की पुण्य स्मृति में एक सभा का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता श्री महामंडलेश्वर महंत श्री श्री 108 स्वामी नरेशानन्द परमहंस ने की और मंच संचालन संस्था के मुख्य सलाहकार ओपी धामा के द्वारा किया गया। स्वामी नरेशानन्द ने अपने संबोधन में कहा कि 93वें साल पहले स्वामी मंगनानंद महाराज ने इस आश्रम में समाधि ली थी। और वह इस आश्रम के पहले महन्त थे जिन्होंने इस आश्रम की स्थापना की थी। उस समय यहां जंगल बियाबान था। और यह जगह बसेलवा गांव के लोगों ने आश्रम को दान में दी थी। यह आश्रम लगभग 200 वर्ष पुराना आश्रम है लेकिन उन्हें इस बात का बड़ा दुख है के नेशनल हाईवे बनने के कारण इस आश्रम और मंदिर को सरकार ने तोड़ने के आदेश दिए हैं। यह दलित समाज की एक ऐतिहासिक धरोहर है और सरकार को यहां एक पुल बनाकर कर इस धरोहर को बचाना चाहिए। इसके लिए संस्था के सभी पदाधिकारियों ने स्थानीय सांसद और केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर,हरियाणा सरकार में कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा, फरीदाबाद के विधायक नरेंद्र गुप्ता,गांव के विधायक राजेश नागर पृथला के विधायक नयन पाल रावत से मंदिर को बचाने के लिए अपील की है। आश्रम के मुख्य सलाहकार ओपी धामा ने बताया कि आश्रम और रविदास मंदिर को बचाने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री हरियाणा,केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्री जिला प्रशासन से अपील की है इस 200 साल पुरानी ऐतिहासिक धरोहर को हर हालात में बचाया जाए। ओपी धामा ने कहा कि उन्होंने इस बारे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग नई दिल्ली में भी अपील की है और आयोग ने हरियाणा सरकार और केंद्रीय सरकार को नोटिस जारी करने के आदेश दे दिए हैं। आयोग की एक टीम शीघ्र ही इस आश्रम का दौरा करेगी। संस्था के वरिष्ठ सदस्य रामचंद्र नंबरदार ने आश्रम के ऐतिहासिक तथ्यों के बारे में बताया और कहा कि जब से सरकार ने इस मंदिर को तोड़ने के आदेश दिए हैं तबसे पूरे दलित समाज में बहुत आक्रोश है। नगर निगम के पार्षद और भाजपा अनुसूचित मोर्चा के जिलाध्यक्ष नरेश नंबरदार ने कहा कि वह मंदिर बचाने के लिए तन मन धन से सहयोग करेगा। इसके बाद यहां पर एक विशाल भंडारे का आयोजन किया गया जहां सैकड़ों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। इस कार्यक्रम में संस्था के सचिव बलवीर सिंह,कोषाध्यक्ष अशोक कुमार,वरिष्ठ सदस्य मास्टर त्रिखा राम,ठेकेदार हरज्ञान सिंह धर्मपाल भूतपूर्व सरपंच, राम सिंह,प्यारेलाल,तथा सभी साधु संतों का विशेष योगदान रहा।

About IBN NEWS

Check Also

36वें सूरजकुंड मेले का शुभारंभ करेंगे उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़:डीसी विक्रम सिंह

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट फरीदाबाद:डीसी विक्रम सिंह ने कहा कि 3 फरवरी को भारत …