Breaking News

विपक्षी दलों के  के झंडे  भले ही अलग अलग पर उद्देश्य एक : डा दिनेश शर्मा

Ibn news ब्यूरो रिपोर्ट लखनऊ  

विपक्ष के नकारात्मक मंसूबों को पूरा नहीं होने देना 

पूर्व की सरकारों मैं सांप्रदायिक दंगों का था बोलबाला

विधानसभा के चुनाव  देश को बचाने और उत्तर प्रदेश के नव निर्माण की प्रक्रिया को पूरा करने का  एक मिशन 

भाजपा शासन में नहीं हुआ कोई दंगा 

पिछली सरकारों की अराजकता और जंगलराज को भाजपा सरकार ने कानून के राज में बदला 

प्रधानमंत्री के सामाजिक परिवर्तन के प्रण को पूरा करने में एनजीओ प्रकोष्ठ की महत्वपूर्ण भूमिका 

लखनऊ। उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने कहा कि विपक्षी दलों  के झंडे  भले ही अलग अलग हैं पर उनका  दिल एक है। कांग्रेस इन सभी दलों की सूत्रधार है। इनका राजनैतिक उद्देश्य एक ही है और उनके नापाक मंसूबो को पूरा नहीं होने देना है। इसके लिए पार्टी की संगठन शक्ति को बढाना होगा।  भाजपा का कुनवा बढ रहा है। परिवार में नए सदस्य भी जुड रहे हैं। उन्हे अपनाना होगा तथा पार्टी के लिए उनका उपयोग करना होगा।   पार्टी कार्यकर्ता को डंके की चोट पर सरकार के काम जनता को बताने के साथ ही  विपक्ष की कलई भी खोलनी होगी। यह बताना होगा कि पिछले 15 सालों में इन दलों ने जातिवादी सम्प्रदायवादी सरकारें चलाई हैं। लोगों के बीच में मतभेद पैदा किए हैं। पहले की सरकार तो आपसी मनमुटाव के लिए ही जानी जाती थी।  उस समय प्रदेश में दंगे हुए। जिले जिले कफ्र्यू लगना आम बात थी। पिछले साढे चार साल में अराजक तत्वों की हिम्मत नहीं हुई कि कही पर भी दंगा कर सके। प्रदेश में कोई दंगा नहीं हुआ। भाजपा की सरकार ने बेमिसाल काम किए हैं। किसान को सम्मान निधि से लेकर महिलाओं के खाते  में धनराशि , गरीब को राशन , घर घर शौचालय , फ्री में गैस कनेक्शन जैसे  तमाम कार्य भाजपा की सरकार की देन है।    प्रदेश अध्यक्ष श्री स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में पार्टी के एनजीओ प्रकोष्ठ के प्रतिनिधि सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा के चुनाव  देश को बचाने और उत्तर प्रदेश के नव निर्माण की प्रक्रिया को पूरा करने का  एक मिशन है। यह चुनाव  यूपी को बनाने , नौजवानों के लिए रोजगार की व्यवस्था करने  , किसानों की आमदनी को दोगुना करने , महिलाओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करने  का मिशन है।  इन सभी लक्ष्यों को केवल भाजपा की सरकार ने  ही पूरा  किया है और आगे भी कर सकती है। डा शर्मा ने कहा कि  पिछली सरकारों  के समय में यूपी  केन्द्रीय क्रियान्वयन की सूची में नीचे के पायदान पर रहता था। भाजपा सरकार के साढे चार साल में यूपी 44 योजनाओं के क्रियान्वयन में पहले स्थान पर है। उन्होंने कहा कि  पिछली सरकार के कार्यकाल से अगर तुलना की जाए तो वर्तमान सरकार के कार्यकाल में डकैती , लूट अपहरण के मामलों मैं कमी आई है। प्रदेश में कानून का राज है और लोग बेखौफ जीवन जी पा रहे हैं। पिछली सरकारों में तो माफिया बाकायदा सवारी निकालते थे, भाजपा सरकार के आने के बाद माफिया प्रदेश छोडकर भाग गए हैं। पिछली सरकारों की  अराजकता और जंगलराज अब कानून के राज में बदल चुका है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष को  भाजपा सरकार के कार्यों के सपने आने लगे हैं। अब वे पूर्वांचल एक्सप्रेस वे को भी अपना  सपना बताते हैं। सच  तो यह है कि योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम भाजपा शासन में हुआ है। अगर विपक्ष ने इसका सपना देखा था  तो उसे पूरा क्यों नहीं किया था। आज विपक्ष को जवाबदेह बनाने की जरूरत है।  आज प्रदेश में पांच एक्सप्रेस वे बन रहे हैं तथा 23 हवाई अड्डों पर काम चल रहा है। प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता को बढाने की दिशा में हुए कार्यो के बाद सूबे में 33 मेडिकल कालेज हो गए हैं। हर जिले में मडिकल कालेज की व्यवस्था की जा रही है।  करीब  250 माध्यमिक विद्यालय, 77 डिग्री कालेज और 12 विश्वविद्यालय साढे चार साल में पास हुए हैं। उन्होंने कहा कि आपदा की परिस्थितियों में स्वयं सेवी संगठनों की महत्वपर्ण भूमिका रहती है। इनमें  भी अधिकांश भाजपा के सदस्य होते हैं। आज  भारत को  सामाजिक रूप से बदलने का प्रधानमंत्री ने प्रण लिया है।  प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान ,  फ्री में गैस का कनेक्शन  ,हर घर में नल के लिए सूची बनाने का कार्य , हर घर शौचालय , आयुष्मान भारत का चिकित्सा कार्ड बनवाने जैसे तमाम सामाजिक कार्यों के प्रण को पूरा करने में  एनजीओ प्रकोष्ठ  महत्वपूर्ण भमिका निभा सकता है। भाजपा को  अनुशासित  पार्टी बताते हुए उन्होंने कहा कि  हमारा कार्यकर्ता अनुशासन समर्पण और वचनबद्धता के साथ कार्य करता है।  भाजपा एक राजनैतिक दल जरूर है पर सम्पूर्ण उद्देश्य राजनैतिक नहीं है। पार्टी के लिए सेवा प्रथम है।   कोरोना के समय में जब विपक्ष के नेता अपने घरों में कैद हो गए थे तब भाजपा के कार्यकर्ता अपनी जान की परवाह किए बिना लोगों की मदद के लिए संगठन  ही सेवा अभियान चला रहे थे। विपक्षी दलों के लोग कोरोना काल में पीड़ित लोगों के पास नहीं गए । उन्होंने अपने परिजनों की भी मदद नहीं की जबकि भाजपा के कार्यकर्ता योद्धा की तरह जूझ रहे थे। लोगों की तमाम तरह से मदद कर रहे थे। कोरोना काल में दुनिया के बडे बडे देश कराह रहे थे। वे भारत के आगे दवा भेजने की गुहार तक लगा रहे थे। यह बदले हुए भारत  की तस्वीर है। विपक्ष के लोग कोई कार्य किए बिना ही प्रचार में जुटे रहते है। कार्यकर्ताओं को अपने कार्यों का प्रचार करने की नसीहत देते हुए  उन्होंने कहा कि जब भी जनहित का कोई कार्य किया जाए उसका प्रचार सोशल मीडिया और समाचार पत्रों आदि में जरूर किया जाए। आज के  समय में दिव्यांग निराश्रित एवं वृद्धजनों को टीकाकरण के लिए ले जाने में मदद की जानी चाहिए। टीकाकरण के कैम्प भी लगवाए जा सकते हैं। जिन लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ है उनकी सूची बनवाकर टीका लगावने में उनकी मदद की जाए। इस प्रकार की गतिविधियां जनता को प्रभावित करती है। ऐसे लोगों के लगातार सम्पर्क में रहते हुए उन्हें भाजपा से जोडना होगा।  आज भाजपा ने जिस गति के साथ विकास काम किया है उसके बाद विरोधी दलों को कुछ सूझ नहीं रहा है। वे विकास के मामले में भाजपा का मुकाबला करने में खुद को अक्षम पा रहे हैं।  कार्यकर्ताओं का हौसला बढाते हुए उन्होंने कहा कि वे जोश और उत्साह के साथ आपसी मतभेद भुलाते हुए चारों ओर फैल जाए एवं भाजपा की विजय सुनिश्चित करें। 

About IBN NEWS

Check Also

सीएम योगी के भाजपा प्रत्याशी घोषित होने के बाद अब अन्य दलों के संभावित प्रत्याशियों पर दिलचस्पी नहीं।

भाजपा की सेफ सीट मानी जाती है गोरखपुर शहर विधानसभा संसदीय चुनाव में शहर से …