Breaking News

बिहार: दरभंगा पुलिस अपरहरण काण्ड के आरोपी, पुलिस कांस्टेबल कमलेश पासवान को गिरफ्तार करने में नाकाम

दरभंगा पुलिस अपरहरण काण्ड के आरोपी, पुलिस कांस्टेबल कमलेश पासवान को गिरफ्तार करने में नाकाम
पुलिस उप निरीक्षक श्री ए.के.राय की कार्य प्रणाली विवादित
डीआइजी और एसएसपी के आर्डर की हो रही है अनदेखी, कमलेश पासवान केस वापस लेने के लिए लड़की के परिवार को डरा व् धमका रहा है|
रमेश कुमार ( नाम बदला गया है) ने अपनी बेटी के अपहरण के मामले में ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी पुलिस स्टेशन में लिखित शिकायत दिया ,उस शिकायत पर कारवाई करते हुए पुलिस ने दिंनाक १९.०६.२०१८ को आईपीसी की धारा ३६६ के तहत कमलेश पासवान ,पिता नरेश पासवान ,गांव नोडेगा ,पोस्ट ,थाना -बहेरी ,जिला -दरभंगा पर अपरहण का मामला दर्ज किया है. सूत्रों से जानकारी मिली है कि कमलेश पासवान,पुलिस कांस्टेबल है और वह कटिहार एसपी कार्यालय या सहायक थाना कटिहार में कार्यरत है और एफआईआर दर्ज होने के बाद कमलेश पासवान को सस्पेंड कर दिया गया है.रमेश कुमार ने यह आरोप लगाया है की उनकी लड़की , नेहा ( नाम बदला गया है ) का अपहरण करके उनकी लड़की को कही पर छुपा कर या बंधक बनाकर रखा है |
पुलिस ने कमलेश पासवान से कई बार उसके मोबाइल पर बात किया है और पुलिस स्टेशन में सरेंडर करने के लिए कहा गया.पुलिस से बात करते समय पासवान ने लड़की को थाना में पुलिस के हवाले करने का भी वादा किया लेकिन कमलेश पासवान पुलिस को कई दिनों से केवल धोखा और चकमा ही दे रहा है .कमलेश पासवान अपने मोबाइल से कॉल करके लड़की के पिता और उसके रिश्तेदारों पर केस वापस लेने की लगातार धमकी देकर दबाव बना रहा है जिसकी जानकारी पुलिस कोलिखित में दी गयी है|
कमलेश पासवान अलग अलग नम्बरों से लड़की के पिता और रिश्तेदारों को कॉल ,मिस कॉल करके परेशान कर रहा है.इस मामले में कमलेश पासवान पर अलग से धमकी देने का एक और केस दर्ज होना चाहिए ऐसी मांग लड़की के पिता और रिस्तेदार पुलिस से करनेवाली है.एसएसपी साहब ने धमकी देने के आरोपी में अलग केस रेजिस्टर्ड करने कि बात फ़ोन पर कही है. कमलेश पासवान का फ़ोन कई दिनों से ऑन हैं परन्तु पुलिस ने अब तक कमलेश पासवान का मोबाइल लोकेशन चेक नही कर रही है.पुलिस ने कमलेश पासवान के परिवार से पूछताछ नहीं किया है और ना ही पुलिस स्टेशन में बुलाया है.कमलेश पासवान के मामले में पुलिस का काम करने का तरीका विवादित नजर आ रहा है.रमेश कुमार ने डीआइजी साहब दरभंगा रेंज से मिलकर लड़की की बरामदगी जल्द करने की प्रार्थना की है. डीआइजी साहब ने एसएसपी साहब को कॉल करके मामले में कारवाई करने का आदेश दिया लेकिन आज तक लड़की की बरामदगी और कमलेश पासवान को गिरफ्तार करने का काम ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी पुलिस दरभंगा ,बिहार ने नहीं किया है|
कुछ पुलिस के कुछ दलाल कमलेश पासवान पर एक्शन नहीं लेना का दबाव बना रही है.पुलिस द्वारा की गयी कारवाई की सही जानकारी लेने के लिए थाना प्रभारी श्री अजय कुमार झा साहब से उनके फ़ोन पर बात किया गया तो झा साहब ने बताया की पुलिस काम कर रही है.झा साहब के पहले श्री राजेश कुमार ने मामले में काम किया लेकिन उनको भी कमलेश पासवान हाथ नहीं लगा.कमलेश पासवान एक पुलिस कांस्टेबल है इसीलिए पुलिस के अधिकारी ईमानदारी से काम नहीं कर रहे है ऐसा आरोप लड़की के पिता , रिश्तेदारों ने पुलिस पर लगाया है.कमलेश पासवान अभी भी अलग अलग मोबाइल नम्बरों से लड़की के पिता और रिश्तेदारों को कॉल कर रहा है और पुलिस हाथ पर हाथ रखा कर बैठी है और तमाशा देख रही है .ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी पुलिस स्टेशन में काम करनेवाला पुलिस उप निरीक्षक श्री ए.के.राय ,लड़की के रिश्तेदारों और पिता को तरह तरह के गलत,पीड़ादायक उपहासपूर्ण शब्दो का प्रयोग करके मानसिक यातनाये दे रहे हैं|
राय को पुलिस कांस्टेबल कमलेश पासवान से सम्बन्ध में पूरी जानकारी है और कमलेश पासवान उनसे मिलकर भी गया लेकिन राय ने प्रभाव में आकर पासवान को गिरफ्तार नहीं किया इससे ऐसा लगता है कि राय ने कमलेश पासवान को बचाने का ठेका लिया .मामले में राय की भूमिका विवादित है.मामले में सही से जांच होगा तो राय और पुलिस स्टेशन में काम करनेवाले कुछ पुलिसवालों की नौकरी खतरे में आ सकती है. बिहार पुलिस अपने सिपाही को खोज ,पकड़ नहीं सकती है तो यही पुलिस बिहार के क्रिमिनल को कैसे खोजेगी, पकड़ेगी इस बात की चर्चा चारो तरफ हो रही है.एसएसपी साहब और डीआइजी साहब को मामले कि जांच अपने स्तर से करवानी चाहिए तब ही जाकर सही काम होगा ।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

आयुष्मान कार्ड में जमकर हो रही धांधली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *