झाँसी – तीन बर्ष से टूटा सुखनई नदी का पुल प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान। नदी आने पर कई गांवों के लोग हो जाते घरों में कैद ,कभी भी हो सकता है गम्भीर हादसा


ब्यूरो चीफ झाँसी।
झाँसी 8 अगस्त। विकास खण्ड बंगरा के अंतर्गत कस्बा रानीपुर से लगे लुहरगांव समेत कई गांवों के लोगों व स्कूली बच्चों को सुखनई नदी का पुल टूट जाने से आने जाने में भारी परेशान होना पड़ रहा है।
जानकारी के अनुसार कस्बा रानीपुर से लगे ग्राम लुहरगांव समेत कई गाँव के लोग बरसात में घरों में कैद होकर रह जाते हैं लेकिन शासन प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है नदी से एक तरफ से दुसरे तरफ निकलने में लोगो को बडी ही मुसीबतों का सामना करना पडता है। स्कूली बच्चों का तो और बुरा हाल है उन्हें नदी से निकलने में बहुत डर लगता है बच्चे अकेले स्कूल नही जा पाते है। जिससे बच्चों का भबिष्य अंधकार में है स्कूल न जा पाने के कारण वह अपनी पढ़ाई नही कर पा रहे है। लुहार गांव से रानीपुर की दूरी मात्र एक किलोमीटर से भी कम है पर पुल के टूटने से रानीपुर की दूरी 10 किलोमीटर हो जाती है। गर्मी के मौसम में तो लोग नदी में बनी पगडण्डी के सहारे निकल जाते है परंतु बरसात के मौसम में पुल न होने के कारण लोग अपने घर मे कैद हो जाते है। नदी पार करते जब एक बच्चे से पूछा तो बच्चे के चेहरे पर नदी का साफ डर दिखता नजर आया। बच्चे ने सिर्फ इतना कहा कि हमे ड़र लगता है। बीमार लोगो का तो और भी बुरा हाल है। नदी के पानी की बजह से वह अस्पताल तक नही पहुच पाते है कुछ लोगो की तो इलाज के अभाव में मौत तक हो जाती है।यहाँ तक कि गर्भवती महिलाओं को डिलेवरी कराने रात्रि में भी नदी पार कर ले जाना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया की हमारा तो जीवन बर्बाद है कोई सुनने वाला नहीं।
रिपोर्ट – महेन्द्र सिंह सोलंकी।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

कोठीभार थाने पर मनाया गया अंर्तराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस

Ibn24×7news सिसवा बाजार महराजगंज रविवार को अंतर्राष्ट्रीय नशा मुक्त दिवस के अवसर पर पुलिस उपाधीक्षक …

Leave a Reply

Your email address will not be published.